राफेल घोटाले की CBI जांच पर बुरे फंसे मोदी, केजरीवाल ने किया हमला- क्या छुपा रहे हो मोदी जी? जानें क्या है CBI घूसकांड और राफेल की जांच करने वाले CBI निदेशक आलोक वर्मा को मोदी ने क्यों निकाला।

1
961

CBI घूसकांड के पश्चात CBI में हुए दो फाड़ के बाद देश की सबसे बड़ी जांच एजेंसी में जबरदस्त घमासान मचा हुआ है। इसी कड़ी में कल आधी रात को 2 बजे एक आदेश जारी करते हुए प्रधानमंत्री मोदी की अपॉइंटमेन्ट कमिटी ने CBI निदेशक आलोक वर्मा को निकालकर उनकी जगह जॉइंट डायरेक्टर एम नागेश्वर राव को नियुक्त कर दिया है। खुद को बचाने के लिए लोकतंत्र का गला घोंट रही है मोदी सरकार।

#BREAKING : ऑफिस ऑफ प्रॉफिट केस में आप विधायकों को मिली बड़ी जीत, चुनाव आयोग ने आप विधायकों पर से सभी आरोप किये खारिज

इसपर दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल ने मोदी पर हमला करते हुए पूछा कि ‘किस अधिकार के तहत मोदी सरकार ने देश की प्रधान जांच एजेंसी के निदेशक के खिलाफ आदेश जारी किया ?’ मुख्यमंत्री केजरीवाल ने ट्वीट करते हुए प्रधानमंत्री मोदी से सीधा सवाल पूछा कि “क्या छुपा रहे हो मोदी जी?”

Also Read : केजरीवाल के वो काम जिन्होंने रचा इतिहास !

राफेल घोटाले की जांच करने वाले CBI निदेशक आलोक वर्मा को मोदी सरकार ने निकाला :


बड़ा सवाल यह है कि लोकपाल एक्ट के तहत नियुक्त प्रधान जांच एजेंसी के निदेशक आलोक वर्मा की मोदी सरकार कैसे छुट्टी कर सकती है जबकि उनको ये अधिकार नहीं है। यह तो लोकतंत्र के खिलाफ है। जिसके खिलाफ आलोक वर्मा ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की है कि उन्हें भ्रस्टाचार के खिलाफ निष्पक्ष जांच से रोकने के लिए सरकार द्वारा हस्तक्षेप किया जा रहा है और इसी के चले उन्हें कार्यकाल पूरा होने से पहले ही निकाल भी दिया गया है।

Also Read : 36 हजार करोड़ के ‘राफेल’ घोटाले पर आम आदमी पार्टी ने मांगा PM मोदी का ‘इस्तीफा’, पूछा देश चलाने आये थे या अम्बानी की दलाली करने ?

मीडिया से बात करते हुए मुख्यमंत्री केजरीवाल ने कहा कि, “मीडिया रिपोर्ट से पता चला है कि CBI डायरेक्टर #Rafaledeal की जांच करने वाले थे। इसमे मोदी जी क्या छुपाना चाहते है, निष्पक्ष जांच क्यो नही होने दे रहे।

राफेल डील में बहुत गड़बड़ हुई है 600 करोड़ का जहाज 1500 करोड़ में खरीद गया देश की कम्पनी को नुकसान देकर अम्बानी को फायदा पहुंचाया गया।

यही एक कारण नजर आ रहा है की मोदी जी इतना घबरा गए कि केस होने से पहले ही रात को 3 बजे CBI डायरेक्टर को निकाल दिया।”

CBI घूसकांड : मोदी के करीबी राकेश अस्थाना लेते थे घूस और काली कमाई पहुंचती थी PMO तक :


आपको बता दें मोदी के बेहद करीबी माने जाने वाले गुजरात कैडर के 1984 बैच के IPS अधिकारी राकेश अस्थाना जो कि CBI के स्पेशल डाइरेक्टर हैं, पर हैदराबाद के एक बिजनेसमैन को मोइन कुरैशी केस से बचने के लिए 5 करोड़ की घुस लेने का आरोप है। इस सम्बंध में 1 हफ्ते पहले उन पर केस दर्ज किया गया है जिससे CBI के अंदर अपने ही भ्रष्ट अधिकारियों के खिलाफ चल रही लड़ाई साफ तौर पर सामने आई। लेकिन यह मामला सिर्फ एक केस तक खत्म नहीं होता आरोप है कि राकेश अस्थाना ‘एक्सटॉर्शन रैकेट’ भी चला रहे थे और इसकी काली कमाई PMO तक पहुंचती थी। सूत्रों के अनुसार इसके तार मुख्य रूप से राफेल डील से भी जुड़े हुए हैं।

Also Read : जानें क्या है राफेल घोटाला। अम्बानी के दलाल का राष्ट्रवादी घोटाला, एक ‘राफेल’ का कमीशन तुम क्या जानो भारतवासियों

राफेल घोटाले की जांच कर रहे थे आलोक वर्मा, बुरे फंसे मोदी तो CBI निदेशक को निकाला :


1979 बैच के अधिकारी आलोक वर्मा का CBI निदेशक के तौर पर 2 साल का कार्यकाल जनवरी 2019 में खत्म होने वाला था। वे जाने से पहले रक्षा सौदे में मोदी सरकार के राफेल घोटाले पर प्रारम्भिक जांच शुरू करने वाले थे। जिससे मोदी सरकार बेहद घबराई हुई थी। 36 हजार करोड़ का ये राफेल घोटाला मोदी सरकार की गले की फांस बना हुआ है।

राफेल घोटाले के खिलाफ पूर्व वित्तमंत्री यशवंत सिन्हा, अरुण शौरी और प्रशांत भूषण ने CBI में क्रिमिनल कम्प्लेंट साथ ही सुप्रीम कोर्ट में PIL भी दायर की थी। इस कम्प्लेंट को CBI निदेशक आलोक वर्मा ने ना सिर्फ स्वीकार किया बल्कि वे जल्द ही राफेल घोटाले की जांच शुरू भी करने वाले थे, उन्होंने रक्षामंत्रालय को भी इस सम्बन्ध में नोटिस किया था।

Also Read : केजरीवाल के मंत्री पर 100 करोड़ की टैक्स चोरी के आरोप का सच। 60 घण्टे चली इनकम टैक्स रेड, खोदा पहाड़ निकली चुहिया !

आम आदमी पार्टी के राज्यसभा सांसद सिंजय सिंह ने भी CBI और CVC से राफेल घोटाले की जांच करने की मांग की थी। राफेल घोटाले पर सुप्रीम कोर्ट में भी सुनवाई शुरू हो चुकी है कोर्ट ने मोदी सरकार को आदेश जारी किया है कि बन्द लिफाफे में राफेल विमान सौदे की खरीद का पूरा प्रोसीजर बताएं।



*This is a personal blog. All content provided on this blog is for informational purposes only. The owner of this blog makes no representations as to the accuracy or completeness of any information on this site.

1 COMMENT

Leave a Reply