आम आदमी पार्टी के लिए राहत का सिलसिला जारी। मुख्य सचिव मारपीट मामले में सीएम केजरीवाल, डिप्टी सीएम सिसोदिया समेत 13 AAP MLA’s को अदालत ने जमानत दी।

1
404

आप विधायकों के ऊपर से ऑफिस ऑफ प्रॉफिट केस खत्म होने के साथ ही आम आदमी पार्टी को कोर्ट एक और राहत मिली है। मुख्य सचिव अंशु प्रकाश के साथ मारपीट के मामले में दिल्ली पुलिस ने मुख्यमंत्री केजरीवाल, उपमुख्यमंत्री सिसोदिया समेत 13 AAP MLA को आरोपी बनाते हुए 1300 पन्नों की चार्जशीट फाइल थी जिनमें बेहद संगीन धाराएं लगाकर पुलिस ने केस को मजबूत करने की पूरी कोशिश की थी लेकिन इसके बावजूद आज सुनवाई के दौरान पटियाला कोर्ट ने आप विधायको का पक्ष सुनते हुए उनका बिल स्वीकार उन्हें 50,000 के मुचलके पर जमानत दे दी है। अब अगली सुनवाई 7 तारीख को होगी।

Also Read : #BREAKING : ऑफिस ऑफ प्रॉफिट केस में AAP MLA’s को मिली जीत, 27 AAP MLA पर दर्ज ऑफिस ऑफ प्रॉफिट का केस EC ने किया खारिज, राष्ट्रपति ने दी मंजूरी।

दिल्ली पुलिस के लिए बड़ा झटका

आज सभी आरोपियों की पेशी होनी थी। खुद उपमुख्यमंत्री मनीष सिओदिया भी आप विधायकों के साथ कोर्ट में पेश हुए थे। इस केस में सभी आप विधायकों को जमानत मिलना दिल्ली पुलिस के लिए दूसरा झटका है इससे पहले जब पुलिस ने कोर्ट में चार्जशीट फाइल की थी तो तुरन्त कोर्ट ने सुनवाई से पहले ही चार्जशीट में से एक संगीन धारा हटा दी थी।

Also Read : केजरीवाल के मंत्री पर 100 करोड़ की टैक्स चोरी के आरोप का सच। 60 घण्टे चली इनकम टैक्स रेड, खोदा पहाड़ निकली चुहिया !

इसके अलावा जब दिल्ली पुलिस ने चार्जशीट दाखिल करने के बाद मीडिया में बयान दिया था कि केजरीवाल के PS विभव ने उनके खिलाफ गवाही दी है तब भी कोर्ट ने दिल्ली पुलिस को फटकार लगाई थी थी ‘जब आपने हमें बन्द लिफाफे में चार्जशीट जमा की है तो बिना सुनवाई शुरू हुए गई चार्जशीट के तथ्यों के बारे में मीडिया में बयानबाजी कैसे कर सकते हो ?’ आम आदमी पार्टी ने दिल्ली पुलिस के इस बयान को झूठा बताया और आप की इमेज को खराब करने के लिए मीडिया में गलत खबर इम्प्लीमेंट करने का आरोप लगाया। इसके बाद खुद केजरीवाल के PS विभव सामने आए और उन्होंने दिल्ली पुलिस के दावे को खारिज करते हुए बताया कि उन्होंने केजरीवाल के खिलाफ कोई बयान नहीं दिया है। ये सब BJP की साजिश है और कोर्ट में भी वे केजरीवाल के पक्ष में ही गवाही देंगे।

Also Read : राफेल घोटाले कि CBI जांच पर बुरे फंसे PM मोदी…….

एक्सपर्ट्स का कहना है कि मुख्य सचिव मारपीट का ये केस बेहद कमजोर है। केजरीवाल समेत आप विधायकों के खिलाफ दिल्ली पुलिस एक भी ठोस सबूत नहीं जुटा पायी है और जल्द ही अन्य केसों की तरह इस मामले में भी आप विधायकों को बड़ी जीत मिल सकती है।



*This is a personal blog. All content provided on this blog is for informational purposes only. The owner of this blog makes no representations as to the accuracy or completeness of any information on this site.

1 COMMENT

  1. जो हो रहा है. अच्छा हो रहा है. अब आम आदमी पार्टी और भी मजबूत और निखर कर उभरेगी.

Leave a Reply