केजरीवाल का बड़ा ऐलान- हरियाणा में बनी आप की सरकार तो दिल्ली की तरह प्राइवेट स्कूलों की बढ़ी हुई फीस कराएंगे ब्याज सहित वापस।

0
477

हरियाणा में स्कूल-अस्पताल रैली को सम्बोधित करते हुए दिल्ली सीएम केजरीवाल ने ऐलान किया कि “अगले साल हरियाणा में चुनाव हैं अगर यहां आप की सरकार बनती है तो सरकार में आते ही प्राइवेट स्कूलों की बड़ी हुई फीस जनता को ब्याज सहित वापस दिलवाएंगे।”

केजरीवाल ने कहा कि हरियाणा की जनता अब बदलाव चाहती है। हरियाणा को अब बेहतर स्कूल-अस्पताल चाहिए। और ये बदलाव सिर्फ आम आदमी पार्टी ही ला सकती है। ये मैं बिना सबूत के नहीं कह रहा हूँ। दिल्ली में भी प्राइवेट स्कूल वालों ने बहुत लूट मचा रखी थी लेकिन हमने सरकार में आने के बाद आदेश जारी कर दिया कि कोई भी स्कूल फीस नहीं बढ़ा सकता।

उन्होंने बताया की दिल्ली सरकार ने आदेश जारी कर 200 से ज्यादा स्कूलों की बढ़ी हुई फीस पेरेंट्स को ब्याज सहित वापस करायी है। इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ कि प्राइवेट स्कूलों को फीस बढ़ाना तो दूर की बात उल्टा कई-कई सालों पहले की भी बढ़ी हुई फीस ब्याज सहित वापस करनी पड़ी है।

सीएम केजरीवाल ने बताया कि हरियाणा की तरह 3 साल पहले दिल्ली के भी सरकारी स्कूलों का हाल बहुत खराब था लेकिन आज आप आकर देखो दिल्ली में.. हमने सरकार में आने के बाद सरकारी स्कूलों को इतना बढ़िया कर दिया कि दिल्लीवालों का सीना गर्व से 58 इंच का हो गया है।

केजरीवाल ने जनता से पूछा कि क्‍या आपने कभी सुना था कि स्‍कूल-अस्‍पताल रैली। हम सुना करते थे कि हुंकार रैली, परिवर्तन रैली, विकास रैली, फलानी रैली, ढिमकी रैली। स्‍कूल अस्‍पताल की बात ही नहीं करता था कोई। 70 साल में किसी पार्टी ने स्‍कूल अस्‍पताल की बात नहीं करी। 70 साल में किसी पार्टी ने आकर कहा हो कि जी हम स्‍कूल बनवा देंगे या हमने स्‍कूल बनवाये हमारे को वोट दे दो ये किसी ने कहा आपको?

70 साल में किसी पार्टी ने आकर कहा कि जी हमने सड़कें बनवा दी, हमने बिजली करवा दी हमको वोट दे दो। ये पहली बार भारत के इतिहास में 70 साल में हो रहा है कि कोई पार्टी आकर कह रही है कि दिल्‍ली में स्‍कूल अस्‍पताल ठीक करवा दिए अब हरियाणे में भी करवा देंगे।

केजरीवाल ने खट्टर सरकार पर हमला करते हुए कहा कि जब 3 साल में दिल्ली के स्कूल-अस्पताल बेहतर कर सकते हैं तो 4 साल में खट्टर सरकार क्यों नहीं कर पाई ? 70-70 सैलून से राज कर रही पार्टियां क्यों नहीं कर पाई ?

उन्होंने कहा कि “हम लोगों को जानबूझकर पिछड़ा रखा गया, हम लोगों को जानबूझकर गरीब रखा गया, किसानों को जानबूझकर आत्‍महत्‍या करने के लिए मजबूर रखा गया दोस्‍तों। यह आजादी की दूसरी लड़ाई है। आम आद‍मी पार्टी किसी पार्टी का नाम नहीं है, 1947 में अंग्रेजों को खड़ेदकर देश से बाहर फेका था, अब टाईम आ गया है कि इस देश को इन पार्टियों और इन नेताओं से आजाद करना पड़ेगा दोस्‍तों।”



Important :   *This is a personal blog. All content provided on this blog is for informational purposes only. The owner of this blog makes no representations as to the accuracy or completeness of any information on this site.    

Leave a Reply