पुलिस जवानों की मदद करने में केजरीवाल सबसे आगे, लेकिन खुद दिल्ली पुलिस नहीं दे रही अपने ईमानदार जवानों का साथ।

0
381

भले ही दिल्ली पुलिस केंद्र के इशारों पर आम आदमी पार्टी के नेताओं पर फ़र्ज़ी केस करके कितना ही परेशान कर रही हो लेकिन आप की दिल्ली सरकार पुलिस के जवानों की मदद में सबसे आगे है। जब केजरीवाल सरकार ने शहीद सैनिकों के परिवार को 1 करोड़ रुपये सम्मान राशि देने की स्कीम बनाई तो उसमें पैरामिलिट्री फोर्स, फायर ब्रिगेड के साथ में दिल्ली पुलिस के शहीद जवानों का भी नाम जोड़ा।

सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद जैसे ही केजरीवाल सरकार को शक्तियां वापस मिलीं तुरन्त उन्होंने शहीदों को 1 करोड़ सम्मान राशि स्कीम को वापस लागू कराया। इस समय सीएम केजरीवाल दिल्ली के 18 शहीदों के परिवार को 1 करोड़ की सम्मान राशि बांट रहे हैं जिनमें से 11 शहीद दिल्ली पुलिस के जवान हैं।

इसी कड़ी में जब कल सीएम केजरीवाल विनोद नगर निवासी शहीद जवान बिनेश कुमार के परिवार को 1 करोड़ का चेक देने पहुंचे तो शहीद की पत्नी फूट-फूटकर रो पड़ीं। उन्होंने बताया कि बिनेश कुमार ट्रैफिक पुलिस में थे। एक दिन ड्यूटी के दौरान सुबह करीब 5 बजे एक तेजी से आते हुए ट्रक को रोक रहे थे। इस पर ट्रकवाला उन्हें कुचलते हुए भाग गया। लेकिन आजतक दिल्ली पुलिस ने उस हत्यारे ट्रकवाले को पकड़कर सजा नहीं दी है।

इस पर सीएम केजरीवाल ने दुःख जताते हुए कहा कि अगर उनके पास पुलिस होती तो शहीद जवान बीनेश के हत्यारों को पकड़कर कड़ी से कड़ी सजा दिलवाते लेकिन बेहद अफसोस कि बात है कि आज दिल्ली पुलिस अपने ही साथी जवान के हत्यारों को पकड़ने की सुध नहीं ले रही है।

दिल्ली विधानसभा के विशेष सत्र के दौरान भी सीएम केजरीवाल ने बताया कि उनसे एक BJP नेता ने कहा कि “दिल्ली पुलिस तो हमारे पैर की जूती है”, उन्होंने कहा कि मुझे तो इतना गुस्सा आया कि उस BJP नेता को वहीं दो तमाचे मारूं। तभी एक आप विधायक बोल पड़ा कि फिर एक और केस दर्ज कर देते केजरीवाल के ऊपर। क्योंकि BJP का एक ही काम है पुलिस के जरिये फ़र्ज़ी केस करवाकर आप नेताओं को परेशान करना।

बता दें इससे पहले भी सिग्नेचर ब्रिज के उद्घाटन के दौरान BJP सांसद मनोज तिवारी ने दिल्ली पुलिस के अफसरों के साथ बदसलूकी की थी। उन्हें तमाचा मारा, कॉलर खींचा और 4 दिन में देख लेने की धमकी दी। तब भी दिल्ली पुलिस ने अपने अफसरों के आत्मसम्मान को दरकिनार करके BJP नेता पर कोई कार्यवाही नहीं कि उल्टा सीएम केजरीवाल के खिलाफ ही FIR दर्ज कर दी थी।

इसके पश्चात गुस्साए आप विधायकों ने सीएम केजरीवाल से मांग रखी थी कि शहीद को 1 करोड़ स्कीम से पुलिस जवानों को बाहर कर दिया जाए। लेकिन अपने विधायकों की मांग को खारिज करते हुए केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली पुलिस मेरा परिवार है। सारे पुलिसवाले खराब नहीं है केवल कुछ बड़े अफसर BJP की गन्दी राजनीति में फंसे हुए हैं। अगर दिल्ली पुलिस हमारे अधीन आ जाये तो जैसे स्कूल-अस्पताल सुधारे हैं वैसे ही पुलिस को भी सुधार देंगे।



Important :   *This is a personal blog. All content provided on this blog is for informational purposes only. The owner of this blog makes no representations as to the accuracy or completeness of any information on this site.    

Leave a Reply