केजरीवाल दिल्ली में लागू करेंगे पुरानी पेंशन स्कीम, मिलेंगे ये 12 बड़े फायदे।

0
2774

26 नवम्बर को रामलीला मैदान में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने पुरानी पेंशन स्कीम लागू करने का ऐलान करके बड़ा राजनीतिक भूचाल ला दिया है। यही नहीं उन्होंने कहा कि वे अन्य राज्यों के मुख्यमंत्रियों को भी चिट्ठी लिखकर पुरानी पेंशन स्कीम बहाली की मांग करेंगे।

गौरतलब है कि नई पेंशन स्कीम में मिले धोखे से नाराज 66 लाख कर्मचारी मोदी सरकार के खिलाफ आंदोलित हैं। अगर इतनी भारी मात्रा में जनता सरकार से खफ़ा हो गयी तो आगामी 2019 लोकसभा चुनाव में BJP को इसका बहुत बड़ा खामियाजा भुगतना पड़ सकता है।

पुरानी पेंशन स्कीम लागू होने पर मिलेंगे ये 12 बड़े फायदे :

1) सामान्य भविष्य निधि (GPF) :

पुरानी पेंशन स्किम में सामान्य भविष्य निधि (GPF) की सुविधा थी। जिसमें कर्मचारी की सैलरी का कुछ हिस्सा जमा होता रहता था और रिटायरमेंट पर वह पैसा कर्मचारी को वापस मिल जाता है। इसके अतिरिक्त सेवा के दौरान कर्मचारी चाहे तो आवश्यकता पड़ने पर GPF से लोन भी ले सकता था। जबकि नयी पेंशन स्किम में GPF की सुविधा पूरी तरह से समाप्त कर दी गयी है।

2) वेतन में कटौती नहीं होगी :

पुरानी पेंशन स्कीम में कर्मचारी के वेतन से कोई कटौती नहीं होती है जबकि नयी पेंशन योजना में वेतन से प्रति माह 10% की कटौती निर्धारित है।

3) पेंशन की निश्चित राशि :

पुरानी पेंशन स्कीम में कर्मचारी को रिटायरमेन्ट के समय एक निश्चित पेंशन राशि (अन्तिम वेतन का 50%) मिलने की गारेण्टी होती है। जबकि नयी पेंशन योजना में पेंशन कितनी मिलेगी यह अनिश्चित है। नयी पेंशन स्कीम में पेंशन राशि पूरी तरह शेयर मार्केट व बीमा कम्पनी पर निर्भर है।

4) पुरानी पेंशन थी सरकार की जिम्मेदारी जबकि नयी पेंशन स्कीम बीमा के भरोसे

पुरानी पेंशन स्कीम में कर्मचारी को पेंशन देना सरकार की जिम्मेदारी होती थी। जबकि नयी पेंशन स्कीम में सरकार ने अपनी जिम्मेदारी बीमा कंपनियों पर छोड़ दी है। यदि पेंशन देने में बीमा कम्पनी कोई आनाकानी करती है तो आपको स्वयं ही अपने हक के लिए लड़ना पड़ेगा, सरकार आपकी कोई सहायता नहीं करेगी।

5) ग्रेच्युटी :

पुरानी पेंशन पाने वालों के लिए रिटायरमेंट पर ग्रेच्युटी (अन्तिम वेतन के अनुसार 16.5 माह का वेतन) मिलता है।

6) डेथ ग्रेच्युटी :

पुरानी पेंशन स्कीम में कर्मचारियों को सेवाकाल में मृत्यु पर डेथ ग्रेच्युटी मिलती है, जो की 7वां वेतन आयोग आने के बाद 10 लाख ₹ से बढाकर 20 लाख ₹ हो गयी है।

7) पारिवारिक पेंशन :

पुरानी पेंशन स्कीम में ऐसा नियम था कि यदि सेवाकाल के दौरान किसी कर्मचारी की मृत्यु होती है तो सरकार द्वारा उसके परिवार को जीवन निर्वहन के लिए पारिवारिक पेंशन मिलती थी। जबकि नयी पेंशन योजना में पारिवारिक पेंशन को पूरी तरह समाप्त कर दिया गया है।

8) महंगाई भत्ता और वेतन आयोग के लाभ :

पुरानी पेंशन स्कीम में कर्मचारी को हर छ: माह बाद महँगाई भत्ता तथा वेतन आयोग का लाभ भी मिलता था। जबकि नयी पेंशन में केवल फिक्स पेंशन मिलेगी, महँगाई भत्ता या वेतन आयोग का लाभ नहीं मिलेगा।

9) भविष्य निधि पर लोन :

पुरानी पेंशन स्कीम में कर्मचारी आवश्यकता पड़ने पर अपने सामान्य भविष्य निधि (GPF) से आसानी से लोन ले सकता था। जबकि नयी पेंशन स्कीम में GPF को खत्म कर दिया गया है और इसके अलावा कर्मचारी को लोन ले सकने के लिए इस प्रकार की कोई सुविधा मुहैया नहीं कराई गई है। जो सुविधा है वह भी केवल विशेष परिस्थियों में और जीवनकाल में तीन बार ही उपयोग कर सकते हैं जिसमें रिफंड का सिस्टम है।

11) रिटायरमेंट के वक्त देना होगा मिले हुए पैसों पर टैक्स :

पुरानी पेंशन स्कीम में कर्मचारी को रिटायरमेंट के समय अपने सामान्य भविष्य निधि में जमा रकम की निकासी पर कोई टैक्स नहीं देना पड़ता था। जबकि नयी पेंशन स्कीम में कर्मचारी को रिटायरमेंट के समय मिलने वाली रकम (जोकि सरकार द्वारा हर माह वेतन में से 10% राशि काट कर जमा की जा रही है) पर भी आयकर भरना पड़ेगा।

12) पुरानी स्कीम में निश्चित पेंशन जबकि नयी स्किम शेयर मार्किट के भरोसे :

पुरानी पेंशन स्कीम में सामान्य भविष्य निधि में एक ब्याज दर निश्चित होती थी अतः कर्मचारी को उसके वेतन के हिसाब से एक निश्चित पेंशन रकम प्राप्त होती थी। जबकि नयी पेंशन स्कीम बीमा कंपनियों के जिम्मे होने के कारण अब कर्मचारियों की पेंशन राशि पूरी तरह से शेयर मार्किट पर निर्भर होगी।

Also Read : रामलीला मैदान से केजरीवाल ने किया कर्मचारियों को बड़े तोहफे का ऐलान – दिल्ली में लागू होगी पुरानी पेंशन स्कीम।

केंद्र सरकार ने नई पेंशन स्कीम लागू कर, 1 जनवरी 2004 के बाद नियुक्त कर्मचारियों को पुरानी पेंशन स्कीम के लाभ से बाहर कर दिया था। अगर पुरानी पेंशन स्कीम वापस लागू हो जाती है इन सभी कर्मचारियों को बहुत लाभ होगा।



Important :   *This is a personal blog. All content provided on this blog is for informational purposes only. The owner of this blog makes no representations as to the accuracy or completeness of any information on this site.    

Leave a Reply