केजरीवाल का बड़ा आरोप “मोदी जी लूटना चाहते हैं RBI का 3 लाख करोड़ का मुनाफा इसीलिए हटाया उर्जित पटेल को…”

0
707

सोमवार को RBI गवर्नर उर्जित पटेल के इस्तीफे की घोषणा ने तहलका मचा दिया। इनसे पहले इस पद पर आसीन पूर्व RBI गवर्नर रघुराम राजन ने भी मोदी सरकार से तनातनी के पश्चात इस्तीफा दे दिया था।

हाल ही में RBI की ओर से बयान आया था कि उनके कार्यक्षेत्र में केंद्र सरकार का अत्यधिक हस्तक्षेप ठीक नहीं है। आरोप है कि मोदी सरकार देश की सभी संस्थाओं की स्वायत्तता को खत्म कर अपने नियंत्रण में लाना चाहती है, फिर चाहे वह CBI हो, सुप्रीम कोर्ट हो या RBI, सभी संस्थाओं पर मोदी सरकार अपनी तानाशाही थोपना चाहती है।

उल्लेखनीय है कि अचानक से नोटबन्दी जैसा तानाशाही आदेश लागू करने के खिलाफ ही रघुराम राजन ने RBI गवर्नर के पद से इस्तीफा दिया था क्योंकि उनके मुताबिक नोटबन्दी से कालेधन पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा उल्टा देश की अर्थव्यवस्था बर्बाद हो जाएगी। किन्तु रघुराम राजन के पश्चात स्वयं मोदी सरकार द्वारा नियुक्त उर्जित पटेल ने नोटबन्दी का समर्थन किया था, हालांकि नोटबन्दी के फेल होने के पश्चात उन्होंने स्वीकार किया कि इसका कालेधन पर कोई असर नहीं हुआ।

बताया जा रहा है कि नोटबन्दी की असफलता के पश्चात RBI और मोदी सरकार के बीच के रिजर्व बैंक के खाते में जमा 3 लाख करोड़ के मुनाफे को लेकर तनातनी चल रही थी। मोदी सरकार चाहती थी कि RBI का यह 3 लाख करोड़ रुपये का मुनाफा सरकार के खाते में स्थानांतरित कर दिया जाए ताकि मौसी सरकार उसका इस्तेमाल अपने मनमुताबिक कर सके, किन्तु RBI अपना मुनाफा सरकार के खाते में डालने से इनकार कर रही थी।

उर्जित पटेल के इस्तीफे के पश्चात दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल ने मोदी सरकार पर हमला करते हुए कहा कि “RBI गवर्नर उर्जित पटेल को हटा दिया गया है क्योंकि उन्होंने मोदी सरकार को आरबीआई रिज़र्व के 3 लाख करोड़ रुपये लूटने की इजाज़त देने से इंकार कर दिया था। अब मोदी सरकार को एक आसानी से मान लेने वाला आरबीआई गवर्नर मिलेगा जो इस लूट की इजाज़त देगा।”

हालांकि भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर उर्जित पटेल ने अपने इस्तीफे के कारण नहीं बताया है। हाल में केंद्रीय बैंक की स्वायत्तता को लेकर उनके और सरकार के बीच तनाव पैदा हो गया था। एक संक्षिप्त बयान में पटेल ने कहा कि उन्होंने तत्काल प्रभाव से अपना पद छोड़ने का निर्णय किया है लेकिन उन्होंने अपने इस्तीफे का कारण नहीं बताया है।

पटेल आरबीआई के 24वें गवर्नर थे। उन्हें सितंबर 2016 में तीन साल के लिए इस पद पर गवर्नर नियुक्त किया गया था। उन्होंने रघुराम राजन की जगह ली थी।



Important :   *This is a personal blog. All content provided on this blog is for informational purposes only. The owner of this blog makes no representations as to the accuracy or completeness of any information on this site.    

Leave a Reply