क्या फर्क है अरविंद केजरीवाल सरकार और शीला दीक्षित सरकार के अधिकारों में?

0
483

आपको जानकर ताज्जुब होगा कि जो पावर शीला दीक्षित के समय दिल्ली सरकार के पास थे वह पावर मोदी सरकार ने अरविंद केजरीवाल सरकार से कब से छीन लीए है

जानिए कौन से थे वह पावर जिससे शीला दीक्षित दिल्ली सरकार की ब्यूरोक्रेसी को पूरी पूरी कंट्रोल कर सकती थी ?

१ ट्रांसफर और पोस्टिंग की पावर

शीला दीक्षित अपने मन से किसी भी अधिकारी को मनचाही पोस्टिंग दे सकती थी और उसका तबादला भी कर सकती थी

२ विजिलेंस जांच की पावर

अगर कोई भी अधिकारी ठीक काम नहीं करता था और भ्रष्टाचार करता था तो शीला दीक्षित के पास उसकी विजिलेंस से जांच करवाने की पावर थी

३ एंटी करप्शन ब्यूरो

दिल्ली सरकार का एंटी करप्शन ब्यूरो पूरा-पूरा शीला सरकार के अधिकार क्षेत्र में था उन्हें किसी भी अफसर पर एंटी करप्शन ब्यूरो से जांच करवाने की पावर थी

४ अधिकारियों और कर्मचारियों की भर्ती का अधिकार

शीला दीक्षित सरकार में कोई भी पद खड़ा कर सकती थी और जितने भी पद सरकार में हैं उन्हें अपनी मर्जी से भर सकती थी इतना ही नहीं सरकार के कर्मचारियों की भर्ती भी अपने मर्जी के मुताबिक कर सकती थी

५ दिल्ली सरकार के सारे निर्णय शीला दीक्षित कर सकती थी

केजरीवाल सरकार के आने के बाद दिल्ली सरकार की सारी फाइलें उपराज्यपाल के पास जाती हैं और उनके हस्ताक्षर के बाद ही दिल्ली में कोई काम हो सकता है

शीला दीक्षित के जमाने में दिल्ली सरकार की सारी फाइलें उपराज्यपाल के पास नहीं जाती थी कानून के मुताबिक जो अधिकार क्षेत्र उपराज्यपाल का था वही फाइलें उनके पास भेजी जाती थी

 

इन बातों से यह स्पष्ट है कि दिल्ली के बाबू किसी भी तरीके से केजरीवाल सरकार के कहने पर काम करने को बाध्य नहीं है

दिल्ली के बाबू पर अगर किसी की चलती है तो वह है दिल्ली के महामहिम उपराज्यपाल !

तो क्या दिल्ली के उपराज्यपाल केजरीवाल सरकार के मर्जी के मुताबिक काम करेंगे? कतई नहीं ! क्योंकि दिल्ली के उपराज्यपाल सीधे-सीधे केंद्र के गृह मंत्रालय को रिपोर्ट करते हैं !!

मतलब साफ है कि दिल्ली का उपराज्यपाल तो एक कठपुतली मात्र है असल में भाजपा की इच्छा के अनुसार दिल्ली सरकार के कामों में रोड़ा लगाने का असल काम वे करते हैं !!

सोचिए अगर आप एक कंपनी चला रहे हैं और उस कंपनी के सीईओ से लेकर सारे कर्मचारी की पोस्टिंग आपकी दुश्मन की कंपनी का मालिक कर रहा है !!

बस कुछ ऐसे ही हालात दिल्ली में बना दिए गए हैं !

https://twitter.com/AAPExpress/status/982246561085181952

 

दिल्ली के लोगों के साथ इससे बड़ा अन्याय और इससे बड़ा लोकतंत्र का भद्दा मजाक कोई नहीं हो सकता !!



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here